शक

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

शक / Shak / Saka

विस्तार में पढने के लिए शक-कुषाण काल देखें


शक सम्भवतः उत्तरी चीन तथा यूरोप के मध्य स्थित विदेश झींगझियांग प्रदेश के निवासी थे । कुषाणों एवं शकों का कबीला एक ही माना गया था । किन्तु इन दोनों के कबीले अलग अलग थे । लगभग ई. पू. 100 में विदेशी शासकों की शक्ति बढ़ने लगी । मथुरा में इनका केन्द्र बना । यहाँ के राजा 'शक क्षत्रप' के नाम से जाने जाते हैं ।

मथुरा के नागरिक शक-क्षत्रपों के समय सबसे पहले विदेशी सम्पर्क में आये पर जनता पर कुषाण शासन का प्रभाव स्थाई रुप से पड़ा । शक संवत पुराना भारतीय संवत है जो ई. 78 से शुरू होता है । भारत में मौर्य और सातवाहन काल में शासन-वर्षों का ही प्रयोग होता था । संवतों का प्रयोग तिथि-निर्धारण के लिए कुषाण और शक काल से होने लगा है । शक, मालव, गुप्त, हर्ष आदि संवतों का संबंध ऐतिहासिक घटनाओं से है। महाभारत में भी शकों का उल्लेख है।

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स
अन्य भाषाएं