कंबोज

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

कंबोज / Kamboj

प्राचीन संस्कृत साहित्य में कंबोज देश या यहाँ के निवासी कांबोजों के विषय में अनेक उल्लेख हैं जिनसे जान पड़ता है कि कंबोज देश का विस्तार स्थूल रूप से कश्मीर से हिंदूकुश तक था। वंश ब्राह्मण में कंबोज औपमन्यव नामक आचार्य का उल्लेख है।

सिंह शीर्ष

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. वाल्मीकि-रामायण बाल0 6,22
  2. महाभारत सभा0 27,23। महाभारत शांति0 207,43;
  3. अंगुत्तरनिकाय 1,213; 4,252, 256-261
  4. महाभारत/ शांति0 207,43
  5. राजतरंगिणी4,163-165
  6. महाभारत द्रोण0 4,5
  7. (एशेंट ज्योग्रेफी आफ इंडिया, पृ0 148)
  8. रघुवंश 4,69।
  9. युवानच्वांग, भाग 1, पृ0 284)
  10. काँवेल 6,110)
  11. लूडर्स, इसंक्रिप्शंस, 176, 472)

सम्बंधित लिंक

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स
अन्य भाषाएं