रामचरन स्वतंत्रता सेनानी

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
श्री रामचरन

श्री रामचरन / Ramcharan

आत्मज श्री खड़्गसिंह।

सिहोरा, मथुरा

नमक सत्याग्रह आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन 1931 में कारावास का दण्ड मिला।

सविनय अवज्ञा आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन 1932 में 1 वर्ष का कारावास का और 25 रुपये जुर्माना हुआ।

व्यक्तिगत सत्याग्रह आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन 1941 में 1 दिन कैद और 50 रुपये जुर्माने की सजा मिली।

सन 1943 में 2 वर्ष का कारावास और 100 रुपये जुर्माना का दण्ड मिला।

विडियो क्लिप

मथुरा के स्वतंत्रता सेनानियों की विडियोग्राफ़ी 1986 में, चौधरी दिगम्बर सिंह जी (स्वतंत्रता सेनानी एवं पूर्व संसद सदस्य) द्वारा करवाई गयी।


निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स
अन्य भाषाएं