विदर्भ

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

विदर्भ / Vidarbh


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. (ततो विदर्भान् संप्राप्तं सायाह्ने सत्यविक्रमम्, ॠतुपर्णं जना राज्ञेभीमाय प्रत्यवेदयन् --वनपर्व 73,1 )
  2. आनर्तादेकरात्रेण विदर्भानगमध्दयै - श्रीमद्भागवत 10,53,6)
  3. हरिवंश पुराण, विष्णुपर्व 60,32
  4. (रघुवंश सर्ग 5 के वर्णन के अनुसार अज ने जिसकी राजधानी अयोध्या में थी विदर्भराज भोज की कन्या इंदुमती के स्वयंवर में जाते समय नर्मदा को पार किया था)
  5. प्रस्थापयामास ससैन्यमेनमृध्दां विदर्भाधिपराजधानीम्।
  6. विदर्भविषयाद् भ्रात्रा वीरसेनेन प्रेषितं लेखं लेखकरैः वाच्यमानं श्रृणोति'।
निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स