स्वामी रघुबीरशरण स्वतंत्रता सेनानी

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

स्वामी रघुबीरशरण / Swami Raghubirsharan

आत्मज श्री किशोरी लाल।

मथुरा

व्यक्तिगत सत्याग्रह आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन 1941 में भारत रक्षा क़ानून की धारा 38 के अन्तर्गत 1 वर्ष के कारावास का दण्ड और 100 रुपये जुर्माना हुआ।

"भारत छोड़ो" आन्दोलन के दौरान सन 1942 में नजरबन्द किये गये।

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स