हजारीलाल उर्फ़ विश्वनाथ शाह स्वतंत्रता सेनानी

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

श्री हज़ारीलाल उर्फ़ विश्वनाथ शाह / Hajarilal

आत्मज श्री पुत्तूलाल।

प्रेम महाविद्यालय, वृन्दावन, मथुरा

नमक सत्याग्रह आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन 1930 में 6 मास के कारावास का दण्ड मिला।

पुन: सविनय अवज्ञा आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन 1932 में 6 मास का दण्ड मिला।

व्यक्तिगत सत्याग्रह आन्दोलन के दौरान सन 1940-41 में अलीगढ़ से जेल गये।

सन 1942 की कान्ति में दिल्ली में गिरफ़्तार हुए और दण्डित हुए। स्वर्गवासी हैं।

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
अन्य भाषाएं
गीता अध्याय-Gita Chapters
टूलबॉक्स