गीता 8:3

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-8 श्लोक-3 / Gita Chapter-8 Verse-3

प्रसंग-


अर्जुन के सात प्रश्नों में से भगवान् अब पहले ब्रह्रा, अध्यात्म और कर्मविषयक तीन प्रश्नों का उत्तर अगले श्लोक में क्रमश: संक्षेप से देते हैं-


श्रीभगवानुवाच
अक्षरं ब्रह्रा परमं स्वभावोऽध्यात्ममुच्यते ।
भूतभावोद्भवकरो विसर्ग: कर्मसंज्ञित: ।।3।।



श्रीभगवान् ने कहा-


परम अक्षर 'ब्रह्मा' है , अपना स्वरूप अर्थात् जीवात्मा 'अध्यात्म्' नाम से कहा जाता है तथा भूतों के भाव को उत्पन्न करने वाला जो त्याग है, वह 'कर्म' नाम से कहा गया है ।।3।।

Sri Bhagavan said:


The supreme indestructible is Brahma; one’s own self (the individual soul) is called Adhyatma; and the discharge of spirits (visarga), which brings forth the existence of beings, is called karma (action). (3)


परमम् = परम ; अक्षरम् = अक्षर अर्थात् जिसका कभी नाश नहीं हो ऐसा सच्चिदानन्दघन परमात्मा तो ; ब्रह्म = ब्रह्म है (और) ; स्वभाव: = अपना स्वरूप अर्थात् जीवात्मा ; अध्यात्मम् = अध्यात्म (नाम से); उच्यते = कहा जाता है (तथा) ; भूतभावोभ्दवकर: = भूतों के भाव को उत्पन्न करने वाला ; विसर्ग: = शास्त्रविहित यज्ञ दान और होम आदि के निमित्त जो द्रव्यादि कों का त्याग है वह ; कर्मसंज्ञित: = कर्म नामसे कहा गया है



अध्याय आठ श्लोक संख्या
Verses- Chapter-8

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12, 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
महाभारत के प्रमुख पात्र
टूलबॉक्स