गीता 13:31

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-13 श्लोक-31 / Gita Chapter-13 Verse-31

प्रसंग-


अब भगवान् द्वारा तीसरे श्लोक में जो 'यत्प्रभावश्च' पद से क्षेत्रज्ञ का प्रभाव सुनने का संकेत किया गया था, उसके अनुसार तीन श्लोकों द्वारा आत्मा के प्रभाव का वर्णन करते हैं-


अनादित्वान्निर्गुणत्वात्परमात्मायमव्यय: ।
शरीरस्थोऽपि कौन्तेय न करोति न लिप्यते ।।31।।



हे अर्जुन ! अनादि होने से और निर्गुण होने से यह अविनाशी परमात्मा शरीर में स्थित होने पर भी वास्तव में न तो कुछ करता है और न लिप्त ही होता है ।।31।।

Arjuna, being without beginning and without attributes, this indestructible supreme spirit, though dwelling in the body, in fact does nothing nor gets contaminated. (31)


कौन्तेय = हे अर्जुन ; अनादित्वात् = अनादि होने से (और) ; निर्गुणत्वात् = गुणातीत होने से ; अयम् = यह ; अव्यय: = अविनाशी ; परमात्मा = परमात्मा ; शरीरस्थ: = शरीर में स्थित हुआ ; अपि = भी (वास्तव में) ; न = न ; करोति = करता है (और) ; न = न ; लिप्यते = लिपायमान होता है ;



अध्याय तेरह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-13

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स