कालाग्निरूद्रोपनिषद

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

<sidebar>

  • सुस्वागतम्
    • mainpage|मुखपृष्ठ
    • ब्लॉग-चिट्ठा-चौपाल|ब्लॉग-चौपाल
      विशेष:Contact|संपर्क
    • समस्त श्रेणियाँ|समस्त श्रेणियाँ
  • SEARCH
  • LANGUAGES

__NORICHEDITOR__

  • सुस्वागतम्
    • mainpage|मुखपृष्ठ
    • ब्लॉग-चिट्ठा-चौपाल|ब्लॉग-चौपाल
      विशेष:Contact|संपर्क
    • समस्त श्रेणियाँ|समस्त श्रेणियाँ
  • SEARCH
  • LANGUAGES

__NORICHEDITOR__

  • कृष्ण यजुर्वेदीय उपनिषद
    • अक्षि उपनिषद|अक्षि उपनिषद
    • अमृतनादोपनिषद|अमृतनादोपनिषद
    • कठोपनिषद|कठोपनिषद
    • कठरूद्रोपनिषद|कठरूद्रोपनिषद
    • कलिसन्तरणोपनिषद|कलिसन्तरणोपनिषद
    • कैवल्योपनिषद|कैवल्योपनिषद
    • कालाग्निरूद्रोपनिषद|कालाग्निरूद्रोपनिषद
    • चाक्षुषोपनिषद|चाक्षुषोपनिषद
    • क्षुरिकोपनिषद|क्षुरिकोपनिषद
    • तैत्तिरीयोपनिषद|तैत्तिरीयोपनिषद
    • दक्षिणामूर्ति उपनिषद|दक्षिणामूर्ति उपनिषद
    • ध्यानबिन्दु उपनिषद|ध्यानबिन्दु उपनिषद
    • नारायणोपनिषद|नारायणोपनिषद
    • रूद्रहृदयोपनिषद|रूद्रहृदयोपनिषद
    • शारीरिकोपनिषद|शारीरिकोपनिषद
    • शुकरहस्योपनिषद|शुकरहस्योपनिषद
    • श्वेताश्वतरोपनिषद|श्वेताश्वतरोपनिषद

</sidebar>

कालाग्निरुद्रोपनिषद

  • कृष्ण यजुर्वेदीय इस उपनिषद में ब्रह्म ज्ञान के साधना भूत 'त्रिपुण्ड्र' धारण की विधि का उल्लेख किया गया है। यह उपनिषद सनत्कुमार और कालाग्निरुद्र के बीच हुए प्रश्नोत्तर के रूप में है। इसमें बताया गया है कि जो मनुष्य इस उपनिषद का अध्ययन करता है, वह शिव-रूप हो जाता है। इसमें मात्र दस मन्त्र हैं।
  • सनत्कुमार के पूछने पर कालाग्निरुद्र 'त्रिपुण्ड्र-विधि' बताते हुए कहते हैं। कि 'त्रिपुण्ड्र' के लिए अग्निहोत्र की भस्म का प्रयोग किया जाता है। इस भस्म को 'सद्योजातादि' पंचब्रह्म मन्त्रों का उच्चारण करते हुए ग्रहण करना चाहिए। ये पंचब्रह्म मन्त्र- अग्निरिति भस्म, वायुरिति भस्म, खमिति भस्म, जलमिति भस्म और स्थलमिति भस्म हैं।
  • दोनों भौहों के मध्य में तीन रेखाओं द्वारा ललाट पर त्रिपुण्ड्र धारण करें। ये तीनों रेखाएं महेश्वरदेव के रूप को व्याख्यायित करती हैं। ये 'ॐ' की प्रतीक हैं। जो ब्रह्मचारी इसे धारण करता है, वह सभी पातकों से मुक्त हो जाता है; क्योंकि 'ॐ' ही सत्य है और वही शिव-रूप है।


सम्बंधित लिंक