गीता 14:5

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-14 श्लोक-5 / Gita Chapter-14 Verse-5

प्रसंग-


भगवान् अब पाँचवें से आठवें श्लोक तक पहले उन तीनों गुणों की प्रकृति से उत्पत्ति और उनके विभिन्न नाम बताकर फिर उनके स्वरूप और उनके द्वारा जीवात्मा के बन्धन प्रकार का क्रमश: पृथक्-पृथक् वर्णन करते हैं-


सत्त्वं रजस्तम इति गुणा: प्रकृतिसंभवा: ।
निबध्नन्ति महाबाहो देहे देहिनमव्ययम् ।।5।।



हे अर्जुन ! सत्त्वगुण, रजोगुण और तमोगुण- ये प्रकृति से उत्पन्न तीनों गुण अविनाशी जीवात्मा को शरीर में बाँधते हैं ।।5।।

Sattva, Rajas and Tamas- these three qualities born of nature tie down the imperishable soul to the body, Arjuna. (5)


महाबाहो = हे अर्जुन ; सत्त्वम् = सत्त्वगुण ; रज: = रजोगुण (और) ; तम: = तमोगुण ; इति = ऐसे (यह) ; प्रकृतिसंभवा: = प्रकृति से उत्पन्न हुए ; गुणा: = तीनों गुण ; अव्ययम् = (इस) अविनाशी ; देहिनम् = जीवात्मा को ; देहे = शरीर में ; निबन्धन्ति = बांधते हैं



अध्याय चौदह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-14

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स