गीता 16:20

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-16 श्लोक-20 / Gita Chapter-16 Verse-20

आसुरीं योनिमापन्ना मूढा जन्मनि जन्मनि ।

मामप्राप्यैव कौन्तेय ततो यान्त्यधमां गतिम् ।।20।।


हे अर्जुन ! वे मूढ मुझको न प्राप्त होकर जन्म-जन्म में आसुरी योनि को प्राप्त होते हैं, फिर उससे भी अति नीच गति को ही प्राप्त होते हैं अर्थात् घोर नरकों में पड़ते हैं ।।20।।

Failing to reach Me, Arjuna, these stupid souls are born life after life in demoniac wombs and then verily sink down to a still lower plane. (20)


कौन्तेय = हे अर्जुन ; मूढा: = वे मूढ पुरुष ; जन्मनि = जन्म ; आपन्ना: = प्राप्त हुए ; माम् = मेरे को ; अप्राप्य = न प्राप्त होकर ; तत: = उससे भी ; अधमाम् = अति नीच ; जन्मनि = जन्म में ; आसुरीम् = आसुरी ; योनिम् = योनि को ; गतिम् = गति को ; एव = ही ; यान्ति = प्राप्त होते हैं अर्थात् घोर नरकों में पडते हैं ;



अध्याय सोलह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-16

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15, 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स