गीता 7:2

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-7 श्लोक-2 / Gita Chapter-7 Verse-2

प्रसंग-


अपने समग्र रूप से ज्ञान-विज्ञान के कहने की प्रतिज्ञा करके अब भगवान् अपने उस स्वरूप का तत्व जानने की दुर्लभता का प्रतिपादन करते हैं-


ज्ञानं तेऽहं सविज्ञानमिदं वक्ष्याम्यशेषत: ।
यज्ज्ञात्वा नेह भूयोऽन्यज्ज्ञातव्यमवशिष्यते ।।2।।



मैं तेरे लिये इस विज्ञान सहित तत्व ज्ञान को सम्पूर्णतया कहूँगा, जिसको जानकर संसार में फिर और कुछ भी जानने योग्य शेष नहीं रह जाता ।।2।।

I shall now declare unto you in full this knowledge both phenomenal and noumenal, by knowing which there shall remain nothing further to be known. (2)


अहम् = मैं ; ते = तेरे लिये ; इदम् = इस ; सविज्ञानम् = रहस्यसहित ; ज्ञानम् = तत्त्वज्ञान को ; अशेषत: = संपूर्णता से ; वक्ष्यामि = कहूंगा (कि) ; यत् = जिसको ; ज्ञात्वा = जान कर ; इह = संसार में ; भूय: = फिर ; अन्यत् = और कुछ भी ; ज्ञातव्यम् = जानने योग्य ; न अवशिष्यते = शेष नहीं रहता है



अध्याय सात श्लोक संख्या
Verses- Chapter-7

1 | 2 | 3 | 4, 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29, 30

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स