गृद्धपिच्छ

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

आचार्य गृद्धपिच्छ / Acharya Graddhapichha

  1. उमास्वामी और
  2. उमास्वाति ये दो नाम भी उपलब्ध हैं।
  1. पूज्यपाद ने सर्वार्थसिद्धि,
  2. अकलंकदेव ने तत्त्वार्थवार्तिक एवं भाष्य,
  3. विद्यानन्द ने तत्त्वार्थश्लोक वार्तिक एवं भाष्य और
  4. श्रुतसागरसूरि ने तत्त्वार्थवृत्ति-ये चार विशाल टीकायें लिखी हैं।

सम्बंधित लिंक

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स