गीता 12:5

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-12 श्लोक-5 / Gita Chapter-12 Verse-5

प्रसंग-


इस प्रकार निर्गुण उपासना और उसके फल का प्रतिपादन करने के पश्चात अब देहाभिमानियों के लिये अव्यक्त गति की प्राप्ति को कठिन बतलाते हैं-


क्लेशोऽधिकतरस्तेषामव्यक्तासक्तचेतसाम् ।
अव्यक्ता हि गतिर्दु:खं देहवद्भिरवाप्यते ।।5।।



उन सच्चिदानन्दघन निराकार ब्रह्मा में आसक्त चित्तवाले पुरुषों के साधन में परिश्रम विशेष है, क्योंकि देहाभिमानियों के द्वारा अव्यक्त विषयक गति दु:खपूर्वक प्राप्त की जाती है ।।5।।

For those whose minds are attached to the unmanifested, impersonal feature of the Supreme, advancement is very troublesome. To make progress in that discipline is always difficult for those who are embodied. (5)


तेषाम् = उन ; अव्यक्तासक्त चेतसाम् = सच्चिदानन्दघन निराकार ब्रह्म में आसक्त हुए चिनवाले पुरुषों के (साधन में ) ; क्केश: = क्केश अर्थात् परिश्रम ; अधकितर: = विशेष है ; हि = क्योंकि ; देहवद्धि: = देहाभिमानियों से ; अव्यक्ता = अव्यक्तविषयक ; गति: = गति ; अवप्यते = प्राप्त की जाती है



अध्याय बारह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-12

1 | 2 | 3,4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13, 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स