गीता 12:9

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-12 श्लोक-9 / Gita Chapter-12 Verse-9

प्रसंग-


यहाँ यह जिज्ञासा हो सकती है कि यदि मैं उपर्युक्त प्रकार से आप में मन-बुद्धि न लगा सकूँ तो मुझे क्या करना चाहिये । इस पर कहते हैं-


अथ चित्तं समाधातुं न शक्नोषि मयि स्थिरम् ।
अभ्यासयोगेन ततो मामिच्छाप्तुं धनंजय ।।9।।



यदि तू मन को मुझमें अचल स्थापन करने के लिये समर्थ नहीं है तो हे अर्जुन ! अभ्यास रूप योग के द्वारा मुझको प्राप्त होने के लिये इच्छा कर ।।9।।

If you cannot stadily fix the mind on me. Arjuna, then seek to attain me through the yoga of repeated practice. (9)


चित्तम् = मनको; मयि = मेरे में; स्थिरम् = अचल; समाधातुम् = स्थापन करनेके लिये; न शक्रोषि = समर्थ नहीं है; तत: = तो; धनंजय = हे अर्जुन; अभ्यासयोगेन = अभ्यासरूप योगके द्वारा; माम् = मेरे को; आप्तुम् = प्राप्त होने के लिये; इच्छ = इच्छा कर



अध्याय बारह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-12

1 | 2 | 3,4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13, 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स