गीता 15:14

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-15 श्लोक-14 / Gita Chapter-15 Verse-14

अहं वैश्वानरो भूत्वा प्राणिनां देहमाश्रित: ।
प्राणापानसमायुक्त:पचाम्यन्नं चतुर्विधम् ।।14।।



मैं ही सब प्रणियों के शरीर में स्थित रहने वाला प्राण और अपान से संयुक्त वैश्वानर अग्नि रूप होकर चार प्रकार के अन्न को पचाता हूँ ।।14।।

I am the fire of digestion in every living body, and I am the air of life, outgoing and incoming, by which I digest the four kinds of foodstuff. (14)


अहम् = मैं (ही) ; प्राणिनाम् = सब प्राणियों के ; देहम् = शरीर में ; आश्रित: = स्थित हुआ ; वैश्र्वानर: = वैश्र्वानर अग्निरूप ; भूत्वा = होकर ; प्राणापानसमायुक्त: = प्राण और अपान से युक्त हुआ ; चतुर्विधत् = चार प्रकार के ; अन्नम् = अन्नको ; पचामि = पचाता हूं ;



अध्याय पन्द्रह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-15

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स