गीता 15:3

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-15 श्लोक-3 / Gita Chapter-15 Verse-3

न रूपमस्येह तथोपलभ्यते नान्तो न चादिर्न च संप्रतिष्ठा ।
अश्वत्थमेनं सुविरूढमूलमसग्ङशस्त्रेण दृढेन छित्वा ।।3।।



इस संसार वृक्ष का स्वरूप जैसा कहा है वैसा यहाँ विचार काल में नहीं पाया जाता । क्योंकि न तो इसका आदि है, न अन्त है तथा न इसकी अच्छी प्रकार से स्थिति ही है । इसलिये इस अहंता, ममता और वासना रूप अति दृढ मूलों वाले संसार रूप पीपल के वृक्ष को दृढ वैराग्य रूप शस्त्र द्वारा काटकर –।।3।।

The nature of this tree of creation does not on mature thought turn out what it is represented to be; for it has neither beginning nor end, nor even stability. Therefore, felling this Pipal tree, which is most firmly rooted, with the formidable axe of dispassion. (3)


अस्य = इस संसार वृक्ष का ; रूपम् = स्वरूप (जैसा कहा है) ; तथा = वैसा ; इह = यहाँ (विचार काल में) ; च = और ; न = न ; अन्त: = अन्त है ; च = तथा ; न = न ; संप्रतिष्ठा = अच्छी प्रकार से स्थिति ही है ; (अत:) = इसलिये ; एनम् = इस ; न = नहीं ; उपलभ्यते = पाया जाता है ; (यत:) = क्योंकि ; न = न (तो इसका) ; आदि: = आदि है ; सुविरूढभूलम् = अहंता ममता और वासनारूप अति द्य्ढ भूलों वाले ; अश्र्वत्थम् = संसाररूप पीपल के वृक्ष को ; द्य्ढेन = द्य्ढ ; असग्ड शस्त्रेण = वैराग्यरूप शस्त्र द्वारा ; छित्त्वा = काटकर ;



अध्याय पन्द्रह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-15

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स