गीता 15:18

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-15 श्लोक-18 / Gita Chapter-15 Verse-18

यस्मात्क्षरमतीतोऽहमक्षरादपि चोत्तम: ।
अतोऽस्मि लोके वेदे च प्रथित: पुरुषोत्तम: ।।18।।



क्योंकि मैं नाशवान् जडवर्ग क्षेत्र से तो सर्वथा अतीत हूँ और अविनाशी जीवात्मा से भी उत्तम हूँ, इसलिये लोक में और वेद में भी पुरुषोत्तम नाम से प्रसिद्ध हूँ ।।18।।

Since I am wholly beyond the perishable world of matter of Ksetra, and am superior even to the imperishable soul, hence I am known as the Purusottama in the world as well as in the Vedas. (18)


यस्मात् = क्योंकि ; अहमृ = मैं ;क्षरम् = नाशवान् जडवर्ग क्षेत्र से तो ; अतीत: = सर्वथा अतीत हूं ; च = और (माया में स्थित) ; पुरुषोत्तम: = पुरुषोत्तम (नाम से) ; अक्षरात् = अविनाशी जीवात्मा से ; अपि = भी ; उत्तम: = उत्तम हूं ; अत: = इसलिये ; लोके = लोक में ; च = और ; वेदे = वेद में (भी) ;प्रथित: = प्रसिद्ध ; अस्मि = हूं ;



अध्याय पन्द्रह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-15

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स