गीता 3:36

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-3 श्लोक-36 / Gita Chapter-3 Verse-36

प्रसंग-


इस प्रकार अर्जुन के पूछने पर भगवान् श्रीकृष्ण कहने लगे-


अथ केन प्रयुक्तोऽयं पापं चरति पूरूष: ।
अनिच्छन्नपि वार्ष्णेय बलादिव नियोजित: ।।36।।



अर्जुन बोले-


हे कृष्ण ! तो फिर यह मनुष्य स्वयं न चाहता हुआ भी बलात्कार से लगाये हुए की भाँति किससे प्रेरित होकर पाप का आचरण करता है ? ।।36।।

Arjuna said:


Now impelled by what, Krishna, does this man commit sin even involuntarily, as though driven by force?(36)


वार्ष्णेंय = हे कृष्ण; अथ = फिर; अयम् = यह; पूरूष: = पुरुष; बलात् = बलात्कार से; नियोजित: = लगाये हुए के; इव = सदृश; अनिच्छन् =न चाहता हुआ; अपि = भी; केन = किससे; प्रयुक्त: = प्रेरा हुआ; पापम् = पापका; चरति = आचरण करता है।



अध्याय तीन श्लोक संख्या
Verses- Chapter-3

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14, 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 | 43

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
महाभारत के प्रमुख पात्र
टूलबॉक्स