गीता 2:49

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-2 श्लोक-49 / Gita Chapter-2 Verse-49

प्रसंग-


इस प्रकार अर्जुन को सत्य का आश्रय लेने की आज्ञा देकर अब दो श्लोकों में उस समता रूप बुद्धि से युक्त महापुरुषों की प्रशंसा करते हुए भगवान् अर्जुन को कर्मयोग का अनुष्ठान करने की पुन: आज्ञा देकर उसका फल बतलाते हैं-


दूरेण ह्रावरं कर्म बुद्धियोगाद्धनंजय ।
बुद्धौ शरणमन्विच्छ कृपणा: फलहेतव: ।।49।।




इस समत्व रूप बुद्धियोग से सकाम कर्म अत्यन्त ही निम्न श्रेणी का है । इसलिये हे धनंजय ! तू समबुद्धि में ही रक्षा का उपाय ढ़ूँढ अर्थात् बुद्धियोग का ही आश्रय ग्रहण कर, क्योंकि फल के हेतु बनने वाले अत्यन्त दीन हैं ।।49।।


Action (with a selfish motive ) is far inferior to this Yoga in the form of equanimity. Do you seek refuge in this equipoise of mind, Arjuna, for poor and wretched are those who are instrumental in making their actions bear fruit.(49)


बुद्धियोगात् =बुद्धियोगसे ; कर्म = (सकाम) कर्म ; अवरम् = तुच्छ है ; (अत:) = इसलिये ; धनंजय = हे धनंजय ; बुद्धौ = समत्वबुद्धियोगका ; शरणम् = आश्रय ; दूरेण = अत्यन्त ; अन्विच्छ = ग्रहण कर ; हि = क्योंकि ; फलहेतव: = फलकी वासनावाले ; कृपणा: = अत्यन्त दीन हैं



अध्याय दो श्लोक संख्या
Verses- Chapter-2

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 , 43, 44 | 45 | 46 | 47 | 48 | 49 | 50 | 51 | 52 | 53 | 54 | 55 | 56 | 57 | 58 | 59 | 60 | 61 | 62 | 63 | 64 | 65 | 66 | 67 | 68 | 69 | 70 | 71 | 72

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स