गीता 2:60

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-2 श्लोक-60 / Gita Chapter-2 Verse-60

प्रसंग-


इस प्रकार इन्द्रिय संयम की आवश्यकता का प्रतिपादन करके अब भगवान् साधक का कर्तव्य बतलाते हुए पुन: इन्द्रिय संयम को स्थित प्रज्ञ अवस्था का हेतु बतलाते हैं-


यततो ह्रापि कौन्तेय पुरुषस्य विपश्चित: ।
इन्द्रियाणि प्रमाथीनि हरन्ति प्रसभं मन: ।।60।।




हे अर्जुन ! आसक्ति का नाश न होने के कारण ये प्रमथन स्वभाव वाली इन्द्रियाँ यत्न करते हुए बुद्धिमान् पुरुष के मन को बलात्कार से हर लेती हैं ।।60।।


Turbulent by nature, the senses even of a wise man, who is practicing self-control, forcibly carry away his mind, Arjuna. (60)


कौन्तेय = हे अर्जुन ; हि = जिससे (कि) ; यतत: = यत्न करते हुए ; विपश्र्चित: = बुद्धिमान् ; प्रमाथीनि = यह प्रमथन स्वभाववाली ; इन्द्रियाणि = इन्द्रियां ; पुरुषस्य = पुरुषके ; अपि = भी ; मन: = मनको ; प्रसभम् = बलात्कारसे ; हरन्ति = हर लेती हैं;



अध्याय दो श्लोक संख्या
Verses- Chapter-2

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 , 43, 44 | 45 | 46 | 47 | 48 | 49 | 50 | 51 | 52 | 53 | 54 | 55 | 56 | 57 | 58 | 59 | 60 | 61 | 62 | 63 | 64 | 65 | 66 | 67 | 68 | 69 | 70 | 71 | 72

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स