गीता 6:24

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-6 श्लोक-24 / Gita Chapter-6 Verse-24

संकल्पप्रभवान्कामांस्त्यक्त्वा सर्वानशेषत: ।
मनसैवेन्द्रियग्रामं विनियम्य समन्तत: ।।24।।



संकल्प से उत्पन्न होने वाली सम्पूर्ण कामनाओं को नि:शेष रूप से त्याग कर और मन के द्वारा इन्द्रियों के समुदाय को सभी ओर से भली-भाँति रोककर ।।24।।

Completely renouncing all desires arising from thoughts of the world, and fully restraining the whole pack of the senses from all sides by the time.(24)


संकल्पप्रभवान् = संकल्प से उत्पन्न होने वाली; सर्वान् = संपूर्ण; कामान् = कामनाओं को; अशेषत: = नि;शेषता से अर्थात् वासना और आसक्ति सहित; त्यक्त्वा =त्यागकर; मनसा = मन के द्वारा; इन्द्रियग्रामम् = इन्द्रियों के समुदाय को; समन्तत: = सब ओर से;एव = ही; विनियम्य = अच्छी प्रकार वश में करके;



अध्याय छ: श्लोक संख्या
Verses- Chapter-6

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स