गीता 6:38

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-6 श्लोक-38 / Gita Chapter-6 Verse-38

प्रसंग-


इस प्रकार शंका उपस्थित करके, अब अर्जुन उसकी निवृत्ति के लिये भगवान् से प्रार्थना करते हैं-


कच्चिन्नोभयविभ्रष्टश्छिन्नाभ्रमिव नश्यति ।
अप्रतिष्ठो महाबाहो विमूढो ब्रह्राण: पथि ।।38।।



हे महाबाहो ! क्या वह भगवत्प्राप्ति के मार्ग में मोहित और आश्रयरहित पुरुष छिन्न-भिन्न बादल की भाँति दोनों ओर से भ्रष्ट होकर नष्ट तो नहीं हो जाता है ? ।।38।।

Krishna, strayed from the path leading to God-realization and heavenly enjoyment ? (38)


महाबाहो = हे महाबाहो ; कच्चित् = क्या (वह) ; ब्रह्मण: = भगवत्प्राप्ति के ; पथि = मार्ग में ; विमूढ: = मोहित हुआ ; अप्रतिष्ठ: = आश्रयरहित पुरुष ; छिन्नाभ्रम् = छिन्न भिन्न बादल की ; इव = भांति ; उभयविभ्रष्ट: = दोनों ओर से अर्थात् भगवत् प्राप्ति और सांसारकि भोगों से भ्रष्ट हुआ ; न नश्यति = नष्ट तो नहीं हो जाता है ;



अध्याय छ: श्लोक संख्या
Verses- Chapter-6

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स