गीता 6:42

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-6 श्लोक-42 / Gita Chapter-6 Verse-42

प्रसंग-


योगिकुल में जन्म लेने वाले योगभ्रष्ट पुरुष की उस जन्म में जैसी परिस्थिति होती है, अब उसे बतलाते हैं-


अथवा योगिनामेव कुले भवति धीमताम् ।
एतद्धि दुर्लभतरं लोके जन्म यदीदृशम् ।।42।।



अथवा वैराग्यवान् पुरुष उन लोकों में न जाकर ज्ञानवान् योगियों के ही कुल में जन्म लेता हैं । परन्तु इस प्रकार का जो यह जन्म है सो संसार में नि:सन्देह अत्यन्त दुर्लभ है ।।42।।

Or (if he is possessed of dispassion) he is born in the family of enlightened yogis; but such a birth in this world is very difficult to obtain.(42)


अथवा = अथवा (वैराग्यवान् पुरुष उन लोकों में न जाकर) ; धीमताम् = ज्ञानवान् ; योगिनाम् = योगियों के ; एव = ही ; कुले = कुल में ; भवति = जन्म लेता है ; ईद्य्शम् = इस प्रकार का ; यत् = जो ; इतत् = यह ; जन्म = जन्म है (सो) ; लोके = संसार में ; हि = नि:सन्देह ; दुर्लभतरम् = अति दुर्लभ है ;



अध्याय छ: श्लोक संख्या
Verses- Chapter-6

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स