नवतीर्थ

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

नवतीर्थ / Nav Tirth

उत्तरे त्वसिकुण्डाञ्च तीर्थन्तु नवसंश्रकम्।
नवतीर्थात् परं तीर्थ न भूतं न भविष्यति।।
असिकुण्ड तीर्थ के उत्तर में नवतीर्थ है। यहाँ स्नान करने से भक्ति की नवनवायमान रूप में उत्तरोत्तर वृद्धि होती है। इससे बढ़कर तीर्थ न हुआ है, और न होगा।

सम्बंधित लिंक

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
अन्य भाषाएं
गीता अध्याय-Gita Chapters
टूलबॉक्स