गीता 11:13

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-11 श्लोक-13 / Gita Chapter-11 Verse-13

प्रसंग-


भगवान् के उस प्रकाशमय अद्भुत स्वरूप में अर्जुन ने सारे विश्व को किस प्रकार देखा, अब यह बतलाया जाता है-


तत्रैकस्थं जगत्कृत्स्नं प्रविभक्तमनेकधा ।
अपश्यद्देवदेवस्य शरीरे पाण्डवस्तदा ।।13।।



पाण्डु पुत्र अर्जुन ने उस समय अनेक प्रकार से विभक्त अर्थात् पृथक्-पृथक् सम्पूर्ण जगत् को देवों के देव श्रीकृष्ण भगवान् के उस शरीर में एक जगह स्थित देखा ।।13।।

Concentrated at one place in the person of that supreme deity, Arjuna then beheld the whole universe with its manifold divisions. (13)


पाण्डव: = पाण्डुपुत्र अर्जुनने; तदा = उस कालमें; अनेकधा = अनेक प्रकारसे; प्रविभक्तम् = विभक्त हुए अर्थात् पृथक् पृथक् हुए; कृत्स्त्रम् = संपूर्ण; तत्र = उस; देवदेवस्य; देवों के देव श्रीकृष्ण भगवान् के; शरीरे = शरीरमें; एकस्थम् = एक जगह स्थित; अपश्यत् = देखा



अध्याय ग्यारह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-11

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10, 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26, 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41, 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47 | 48 | 49 | 50 | 51 | 52 | 53 | 54 | 55

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स