गीता 11:15

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-11 श्लोक-15 / Gita Chapter-11 Verse-15

प्रसंग-


उपर्युक्त प्रकार से हर्ष और आश्चर्य से चकित अर्जुन अब भगवान् के विश्व रूप में दिखने वाले दृश्यों का वर्णन करते हुए उस विश्व रूप का स्तवन करते हैं-


अर्जुन उवाच
पश्चामि देवांस्तव देव देहे
सर्वांस्तथा भूतविशेषसंघान् ।
ब्रह्राणमीशं कमलासनस्थ-
मृषींश्च सर्वानुरगांश्च दिव्यान् ।।15।।



अर्जुन बोले-


हे देव ! मैं आपके शरीर में सम्पूर्ण देवों को तथा अनेक भूतों के समुदायों को, कमल के आसन पर विराजित ब्रह्मा को, महादेव को और सम्पूर्ण ऋषियों को तथा दिव्य सर्पों को देखता हूँ ।।15।।

Arjuna said-


Lord, I behold within your body all gods and hosts of different beings, Brahma throned on his totus-seat, Siva and all Rsis and celestial serpents. (15)


तव = आपके; देहे = शरीरमें; सर्वान् = संपूर्ण; भूतविशेषसउडान् = अनेक भूतों के समुदायोंको(और); कमलासनस्थम् = कमलके आसन पर बैठे हुए; ब्रह्राणम् = ब्रह्रा को(तथा); ईशम् = महादेव को; च = और; ऋषीन् = ऋषियोंको; च = तथा; दिव्यान् = दिव्य; उरगान् = सर्पों को; पश्यामि = देखता हूं



अध्याय ग्यारह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-11

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10, 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26, 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41, 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47 | 48 | 49 | 50 | 51 | 52 | 53 | 54 | 55

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स