महावाक्योपनिषद

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

महावाक्योपनिषद

अथर्ववेद से सम्बन्धित इस उपनिषद में ब्रह्मा ने देवताओं के समक्ष 'आत्मज्ञान' का रहस्य प्रकट किया है। यह आत्मज्ञान सदैव अज्ञान के अन्धकार से ढका रहता है। इसे सात्विक गुणों वाले व्यक्ति के सम्मुख ही कहना चाहिए। इसमें कुल बारह मन्त्र हैं।

सोऽहमर्क: परं ज्योतिरर्कज्योतिरहं शिव:।
आत्मज्योतिरहं शुक्र: सर्वज्योतिरसावदोम्॥11॥


सम्बंधित लिंक

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स